Aloe Vera Ke Fayde In Hindi? एलोवेरा के फायदे और नुकसान

1
14
What is Aloe Vera in Hindi
What is Aloe Vera in Hindi
What is Aloe Vera in Hindi
What is Aloe Vera in Hindi

Aloe Vera Ke Fayde In Hindi इस बात में कोई दो राय नहीं कि आयुर्वेद भारत की देन है और यह एक ऐसी चिकित्सा प्रणाली है जो लगभग हर क्षेत्र में कार्य करती है और हर तरह की बीमारियों व कमजोरियों के लिए लाभदायक मानी जाती है। हमारे देश में आज भी अंग्रेजी दवाइयों की जगह पर सामान्य कमजोरियों और बीमारियों के लिए आयुर्वेदिक दवाइयों और औषधियों का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा कभी सारी औषधियों का सामान्य तौर पर दवाइयां बनाने के लिए व अन्य कई कार्यो के लिए भी उपयोग किया जाता है। जो प्राकृतिक औषधियां व पौधे भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय है उनमें से एक एलोवेरा भी हैं।एलोवेरा वाकई में एक काफी लाभदायक औषधि हैं जिसका कई कार्यो में उपयोग किया जा सकता हैं। लेकिन काफी सारे लोग ऐसे हैं जो अब भी Aloevera के बारे में सटीक रूप से नहीं जानते। यह लेख उन्ही लोगो के लिए लिखा गया हैं।

अगर आप भी उन लोगो मे से एक हो तो यह लेख पूरा पढ़े क्युकी इस लेख में हम आपको ‘एलोवेरा क्या हैं, एलोवेरा के उपयोग क्या है और एलोवेरा के फायदे व नुकसान क्या है आदि सवालों का जवाब देते हुए एलोवेरा की पूरी जानकारी आसान भाषा में (Aloe Vera Ke Fayde In Hindi) देने वाले हैं।

Aloe Vera Ke Fayde In Hindi ? एलोवेरा के फायदे और नुकसान

एलोवेरा हरे रंग का मोटा व गुदेदार पत्‍ते वाला एक पौधा होता हैं जिसमें काफी सारे औषधीय गुण होते हैं। एलोवेरा को हिंदी में ग्वारभाटा या घृतकुमारी भी बोला जाता हैं। वैसे तो यह खूबसूरत पौधा आज के समय मे घरों में गमलों में गार्डन या बालकनी आदि की शौभा बढाने आदि के लिए लगाया जाता हैं लेकिन यह पौधा वाकई में काफी सारे औषधिय गुण भी रखता हैं। एलोवेरा के पौधे के पत्ते गूदेदार होते है और इसके अंदर का गुदा ही औषधीय होता हैं जो कई तरह की स्किन सम्बन्धित समस्याओं के लिए लाभदायक माना जाता हैं। इसके पत्तों के किनारे पर हल्के काटे होते है तो वही पत्तो के बीच मेएक फूल दंड होता हैं जिसमे पीले रंग के कुछ फूल होते हैं। भौगोलिक परिस्थितयो के अनुसार एलोवेरा की कई प्रजातियां पाई जाती है जो विभिन्न समस्याओं के लिए विभिन्न कार्यो में एक असरदायक उपाय के तौर पर उपयोग ली जाती हैं।

Usage of Aloe Vera in Hindi – एलोवेरा के उपयोग

एलोवेरा एक ऐसा औषधीय पौधा हैं जिसके कई उपयोग हो सकते हैं। एलोवेरा के पौधे का कई तरह से कई समस्याओं के निवारण लिए उपयोग किया जा सकता हैं। मुख्य रूप से एलोवेरा के पौधे में पत्ते के अंदर से निकलने वाली जेल का उपयोग त्वचा से सम्बन्धित समस्याओं के इलाज लिए किया जाता है। एलोवेरा के पौधे में निकलने वाली जेल का उपयोग करके आप अपनी त्वचा से सम्बंधित कई समस्याओं जैसे कि फुंसी, फोड़े, चिकनापन आदि से छुटकारा प्राप्त कर सकते हो। लेकिन त्वचा सम्बन्धित समस्याओं के अलावा भी एलोवेरा का कई चीजो में उपयोग किया जा सकता हैं जैसे कि बालों की समस्याओं के लिए एलोवेरा का उपयोग किया जा सकता हैं, ब्लड प्रेसर आदि की समस्याओं को घटाने के लिए एलोवेरा का उपयोग किया जा सकता हैं आदि।

Benefits of Aloe Vera in Hindi – एलोवेरा के फायदे और नुकसान

एलोवेरा एक ऐसा औषधीय पौधा है जिसके एक नहीं बल्कि कई फायदे हैं और यही कारण है कि एलोवेरा को कई लोग अपने घरों में रखना पसंद भी करते हैं। अगर बात की जाए एलोवेरा के पौधों के मुख्य फायदों की, तो वह कुछ इस प्रकार हैं:

त्वचा के लिए फायदेमंद हैं एलोवेरा का पौधा : अगर एलोवेरा के पौधे के सबसे लोकप्रिय और अधिक उपयोगी फायदों के बारे में बात की जाए तो इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसका इस्तेमाल से संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। जी हाँ, एलोवेरा का पौधा त्वचा के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। इस पौधे से निकलने वाली जेल/ज्यूस को त्वचा पर लगाने से उसकी आद्रता व मुलायमता बढ़ती हैं और त्वचा निखरती हैं। पिम्पल आदि समस्याओं को दूर करने में भी यह पौधा लाभदायक हैं।

मेकअप हटाने में किया जा सकता हैं एलोवेरा का उपयोग : एलोवेरा अर्थात ग्वारपाठा के पौधे के काफी सारे फायदे होते हैं जिनमें से एक यह भी है कि इसे मेकअप हटाने के लिए उपयोग किया जा सकता है। आज के समय में लोग अपने आप को बेहतर दिखाने के लिए मेकअप का उपयोग करते हैं और कभी कबार यह मेकअप इतना ही भी हो जाता है कि स्किन को डैमेज करता है तो ऐसे में मेकअप को रिमूव करने के लिए सही तरीके का उपयोग किया जाना चाहिए। एलोवेरा के पौधे की जेल के द्वारा मेकअप को आसानी से बिना किसी नुक्सान के हटाया जा सकता हैं।

बालो को बेहतर बनाने के लिए भी किया जाता हैं एलोवेरा का उपयोग : एलोवेरा की जेल में विटामिन ए, सी और ई पाया जाता है जिनका उपयोग बालों को मजबूत और बेहतर बनाने के लिए किया जा सकता हैं। यानी कि अगर आप उन लोगों में से एक है जिन्हें बाल टूटने या फिर बालों की कमजोरी की समस्या है तो आप एलोवेरा की जेल को अपने बालों पर जाकर कर उन्हें मजबूत और शाइनी बना सकते हो और इसके अलावा इसके उपयोग से आपके बाल सॉफ्ट भी हो जाएंगे।

सिरदर्द के लिए भी किया जा सकता हैं एलोवेरा का उपयोग : अगर आपको अक्सर सिरदर्द की समस्या रहती है तो एलोवेरा का पौधा आपकी मदद कर सकता है। आपको जहां पर भी सर दर्द होता है आप वहां पर एलोवेरा में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर और उसे गर्म करके उसी स्थान पर बांध सकते हैं जहां पर आपका सिर दर्द होता हैं। ऐसा करने से आपको तेजी से दर्द में राहत मिलेगी और आपका दर्द कम हो जाएगा।

आँखों की कमजोरी में भी लाभदायक हैं एलोवेरा : एलोवेरा के पौधे के कई फायदे में से एक फायदा यह भी है कि यह आंखों की कमजोरी में आपकी मदद कर सकता है। अगर आप एलोवेरा के पौधे की जेल को अपनी आंखों में लगाते हो तो इससे आपकी आंखों की जलन मिटते हैं और अगर आपकी आंखें लाल हुए हैं तो उसमें भी यह जेल फायदेमंद हैं। अगर आपकी आंखों में पीड़ा होती है तो आप एलोवेरा के पौधे में हल्दी मिलाकर और इसे गर्म करके अपनी आंखों पर बांध होते हैं जिससे आपकी आंखों की पीड़ा कम हो जाएगी।

कानो के दर्द को भी कम करता हैं एलोवेरा : अगर आप उन लोगों में से एक हो जिन्हें कान दर्द की शिकायत रहती है तो इसमें भी एलोवेरा का पौधा आपकी मदद कर सकता है। जी हां, आपके जज्बे कान में दर्द की समस्या होती है आप उसके विपरीत कान में एलोवेरा के रस की कुछ बूंदे गर्म करके डाल सकते हैं और ऐसा करने के कुछ ही देर में आपको अपने कान दर्द में आराम मिल जाएगा।

खासी जुकाम का भी इलाज कर सकता हैं एलोवेरा : काफी कम लोगों को यह बात याद होगी लेकिन एलोवेरा का उपयोग खांसी व जुकाम को खत्म करने के लिए भी किया जा सकता है। एलोवेरा की जेल और सेंधा नमक को साथ मिलाकर भस्म में तैयार की जा सकती है और इस भस्म की 5 ग्राम मात्रा मुनक्के के साथ ली जा सकती हैं। ऐसा करने से आपको खांसी जुकाम में तुरंत राहत मिल सकती है।

पेट दर्द में भी किया जा सकता हैं एलोवेरा का इस्तेमाल : अगर आपको अक्सर पेट दर्द की समस्या रहती है तो उसके निवारण के लिए भी आप एलोवेरा के पौधे का उपयोग कर सकते हो। दरअसल एलोवेरा की 10 से 12 ग्राम जड़ को पानी मे उबालकर उसमे भुनी हुई हींग मिलाकर पी जाए तो इससे पेट के दर्द में आराम मिल सकता है। इसके अलावा एलोवेरा की जेल को गर्म करके उसमें हल्दी मिलाकर सिर दर्द वाले स्थान पर बांधा जाए तो भी दर्द में राहत मिल सकता हैं।

खूनी बवासीर का इलाज भी सम्भव हैं एलोवेरा के उपयोग से : इस बात में कोई दम नहीं है कि खूनी बवासीर आज के समय में सबसे गंभीर और पीड़ादायक बीमारियों में से एक है। इसकी पीड़ा को कम करने व खत्म करने में एलोवेरा सहायक हो सकता है। अगर एलोवेरा के 50 ग्राम जेल में 2 ग्राम पिसा हुआ गेरू मिलाकर उसकी टिकिया बनाकर उसे रुई के फाहे में फैलाया जाए और गुदा स्थान और उसकी पट्टी लँगोट की तरह बांधी जाए तो मरीज को दर्द व पीड़ा में काफी आराम मिल सकता हैं।

पीलिया में भी लाभदायक हैं एलोवेरा का पौधा : जिन लोगों को पीलिया की बीमारी या फिर कहा जाए तो पीलिया की समस्या है उनके लिए भी एलोवेरा वाकई में एक लाभदायक औषधि का काम कर सकता है। अगर मरीज 10 से 20 ग्राम एलोवेरा के जूस को रोजाना सी है तो उससे पीलिया की बीमारी में पित्तनलीक में काफी राहत मिलती हैं। आँखों के पीलापन को दूर करने के लिए भी 1 एलोवेरा के गुदे का उपयोग कर सकता है। एलोवेरा की एक से दो बूंदे नाक में डालने से वहा भी राहत मिलती हैं।

डायबिटीज में भी काफी लाभदायक हैं एलोवेरा : डायबिटीज की बीमारी आज शाम में काफी सामान्य हो चुकी है लेकिन यह एक खतरनाक बीमारी है और इससे जितना अधिक बचा जाए उतना बचना चाहिए। अगर आपको डायबिटीज से शिकायत है तो एलोवेरा का पौधा आपकी मदद कर सकता है। दरअसल पानी को गर्म करके और सुखा कर नीचे बचे हुए पदार्थ अर्थात गुडूची सत् में 5 ग्राम एलोवेरा का जेल डालकर उसे खाया जाये तो डायबिटीज में राहत मिल सकती हैं।

Disadvantages of Aloe Vera in Hindi – एलोवेरा के नुकसान

इस बात में कोई दो राय नहीं कि एलोवेरा के कई फायदे हैं जिनमें से केवल कुछ मुख्य फायदे के बारे में हमने आपके यहां पर बताया है। लेकिन किसी भी अन्य चीज की तरह है एलोवेरा के पौधे के फायदे के साथ नुकसान भी मौजूद है, जो कुछ इस प्रकार हैं:

• अगर एलोवेरा के रस को सावधानी के साथ ना किया जाए तो इससे कई प्रकार की एलर्जी उपयोग करने वाले व्यक्ति में दिख सकती है। उदाहरण के तौर पर सांस लेने में कठिनाई, सीने में दर्द, गले में जलन, दाने या पित्ती त्वचा समस्याए, खुजली या सूजी हुई त्वचा आदि की समस्याएं इसके रस को सटीक रूप से ना पीने से हो सकती हैं।

• अगर एलोवेरा के जूस का ज्यादा सेवन किया जाए तो इससे इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम की समस्या पैदा हो सकती है जिससे कि आपकी पाचन शक्ति कमजोर होने की संभावना रहती है तो ऐसे में एलोवेरा के जूस का अधिक सेवन करना भी आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

• एलोवेरा के जूस का अगर आवश्यकता से अधिक सेवन किया जा रहा है तो इससे डिहाइड्रेशन की समस्या भी पैदा हो सकती है जो वाकई में किसी भी व्यक्ति के लिए काफी खतरनाक होती है।

• जिन लोगों का ब्लड प्रेशर लो होता है उनके लिए यही बेहतर है कि वह एलोवेरा के जूस से दूरी बनाए रखें क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को लॉक करने का काम करता है और अगर आपका ब्लड प्रेशर पहले से ही लो रहता है तो इससे दूरी बनाए रखे।

Aloe Vera Juice Benefits in Hindi – एलोवेरा ज्यूस के फायदे

औषधियों से जुड़े हुए जिसको पीने से हमें कई प्रकार के फायदे मिलते हैं और अगर बाकी एलोवेरा के जूस की हो तो यह वाकई में काफी फायदेमंद हैं। एलोवेरा के ज्यूस पीने से कई फायदे होते हैं, जो कुछ इस प्रकार है:

• अगर आपको पेट से संबंधित समस्या रहती है तो आप सटीक रूप से कम मात्रा में एलोवेरा के जूस का सेवन कर सकते हैं जिससे आपके पेट संबंधी समस्या दूर हो सकती है और पाचन तंत्र मजबूत होता है। लेकिन अगर आप जोश का अधिक सेवन करते हैं तो यह आपके लिए हानिकारक भी साबित हो सकता है।

• अगर आपके शरीर में कहीं पर जलन होती है तो आप एलोवेरा के जूस और था जिसके गुदे को वहां पर लगा सकते हैं जिससे आपको राहत मिलती हैं। एलोवेरा के जूस में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो जलन व चोट में काफी फायदा देते हैं।

• अगर आपकी त्वचा पर कील मुहासे आते हैं तो उन्हें हटाने के लिए भी आप एलोवेरा के जूस का उपयोग कर सकते हैं। एलोवेरा के जूस में इस प्रकार के तत्व पाए जाते हैं जो त्वचा संबंधी समस्याओं को कम करके त्वचा को बेहतर बनाते हैं।

इसे भी पढ़े

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here